बुधवार, 8 अगस्त 2012

बचपन

.

        मन बड़ी बड़ी बातें करते हुए छोटा सा बच्चा लगता है,
        यही बचपन मुझे अच्छा लगता है,
        साथ हो सरसता सरलता के,
        बीज उर धरे हो तरलता के,
        शीलता तो बरबस हो,
        स्वाभिमानी तरकश हो,
        हो शब्द की मधुर शाला तो अच्छा लगता है,
        बस यही बचपन तो मुझे अच्छा लगता है,
        चाल हो दुलक प्यारी,
        हरकतें भी हों न्यारी,
        ना हो बुद्धू ना ज्ञानी ,
       जानता हो ना जो ये आग है के है पानी,
        सीधा सा सयानापन  कच्चा लगता है,
        बस हाँ यही बचपन तो मुझे अच्छा लगता है।


6 टिप्‍पणियां:

  1. दिल से निकली हर एक कविता का अलग अहसास होता है ...जो दिल को ही चीर देता है

    उत्तर देंहटाएं
  2. दिल से निकली हर एक कविता का अलग अहसास होता है ...जो दिल को ही चीर देता है

    उत्तर देंहटाएं
  3. दिल से निकली हर एक कविता का अलग अहसास होता है ...जो दिल को ही चीर देता है

    उत्तर देंहटाएं
  4. बचपन कभी नहीं जाता सर ,,हमारे भीतर छुप कर बैठा रहता है ....धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं

आपकी अमूल्य टिप्पणियों के लिए अग्रिम धन्यवाद....

आपके द्वारा की गई,प्रशंसा या आलोचना मुझे और कुछ अच्छा लिखने के लिए प्रेरित करती है,इस लिए आपके द्वारा की गई प्रशंसा को मै सम्मान देता हूँ,
और आपके द्वारा की गई आलोचनाओं को शिरोधार्य करते हुए, मै मस्तिष्क में संजोता हूँ.....