शनिवार, 10 दिसंबर 2011

आरक्षण..

शब्द नही है प्यार है मेरा,शब्दों का संसार है मेरा, अगणित बातें कहने को(कलम)ब्लॉग ही अब आधार है मेरा.


समाज में असामाजिकता बढ़ती जा रही है,अमीर और गरीब का अंतर,उंच और नीच का भेदभाव,मनुष्य की
मौलिकता को नष्ट कर रहा है, ऊपर से संविधान में आरक्षण का नियम सामाजिक तानेबाने को छिन्नभिन्न
कर चुका है,  मात्र आठ वर्षों के लिए आरक्षण का प्रावधान संविधान में किया गया था,किन्तु देश के कर्मठ राजनेताओं की ईमानदारी और कर्मठता के कारण साठ वर्षों के उपरान्त भी आरक्षण के समाप्त होने का कोई मार्ग नही दिख रहा है,

कुंठित मानसिकता से उत्पन्न पंक्तियाँ  आपके समक्ष प्रस्तुत है......


आरक्षण..



दबी हुई उस चिंगारी को अंगारा बन जाने दो,
सुप्त हो चुकी ज्वालाओं को नीलगगन तक जाने दो,

स्वर्णिम है इतिहास हमारा स्वाभिमान से भरा हुआ,
पुरखों की सत् शिक्षाओं का अमृत उर में धरा हुआ,
सत्संगी बन शंकर प्रभु के भजन हमें अब गाने दो,

दबी हुई उस चिंगारी को अंगारा बन जाने दो,
सुप्त हो चुकी ज्वालाओं को नीलगगन तक जाने दो,

आरक्षण दैत्य हमारी चोटी पकडे खडा हुआ,
कहो पुराना घाव ये मित्रों फिर से क्यों कर हरा हुआ,
जवालामुखी बने मनस को अब शीतल हो जाने दो,

दबी हुई उस चिंगारी को अंगारा बन जाने दो,
सुप्त हो चुकी ज्वालाओं को नीलगगन तक जाने दो,

रोज कमाना रोज का खाना ये तो सब नित चलता है,
स्मृति में बस बसा के रक्खो जीवन सूरज ढलता है,
अस्त हुए उस सूरज को फिर से अब उग जाने दो,

दबी हुई उस चिंगारी को अंगारा बन जाने दो,
सुप्त हो चुकी ज्वालाओं को नीलगगन तक जाने दो,

कब तक मौन जियेंगे जीवन,होम करेंगे यूँ ही तन मन,
विष के घूँट पिए है अब तक,और पियेंगे जाने कब तक,
पाप पुन्य जो बतलाते है पुन्य उन्हें कर जाने दो,

दबी हुई उस चिंगारी को अंगारा बन जाने दो,
सुप्त हो चुकी ज्वालाओं को नीलगगन तक जाने दो,

किया नही जो अभी तलक मिल कर सब वो काम करो,
बाँध मुष्टिका साथ चलो सब रन में अब हुंकार भरो,
नाद ब्रम्ह गुंजार करो फिर दुनिया को थर्राने दो,

दबी हुई उस चिंगारी को अंगारा बन जाने दो,
सुप्त हो चुकी ज्वालाओं को नीलगगन तक जाने दो.....

4 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत अच्छी कविता है....

    उत्तर देंहटाएं
  2. किया नही जो अभी तलक मिल कर सब वो काम करो,
    बाँध मुष्टिका साथ चलो सब रन में अब हुंकार भरो,
    नाद ब्रम्ह गुंजार करो फिर दुनिया को थर्राने दो...!
    Waah Kya baat hai..

    उत्तर देंहटाएं
  3. Brahmin koi jaati nahi h keval,,ye to ek upadhi h,ek vichardhara hai,,jinhone isko sachhe man se apnaya,unhone desh or dharm k liye sb kuch gava diya....
    Mai aarakhsan ki bheekh kbi nhi chahta par,itne bde bhedbhav ko b bardast ni kr skta....
    Ek bar fir hmko sangathan ki jrurat hai...jai maa bharti...

    उत्तर देंहटाएं

आपकी अमूल्य टिप्पणियों के लिए अग्रिम धन्यवाद....

आपके द्वारा की गई,प्रशंसा या आलोचना मुझे और कुछ अच्छा लिखने के लिए प्रेरित करती है,इस लिए आपके द्वारा की गई प्रशंसा को मै सम्मान देता हूँ,
और आपके द्वारा की गई आलोचनाओं को शिरोधार्य करते हुए, मै मस्तिष्क में संजोता हूँ.....