शुक्रवार, 27 जुलाई 2012

नतमस्तक



नतमस्तक हूँ आज समय के सामने,
श्रम का प्रतिदान चाबुक की फटकार,
जिम्मेदारियों का बोझ लादे ,
चला आया बचपन को झिड़कते हुए,
तानों, दुराग्रहों , समाज की,
बेंड़िया पहने मनाता रहा त्योहार,
बोझ कभी भारी ना लगा,
 पर आज समय ने नतमस्तक कर दिया,
स्वाभिमान भी दलदली हो गया है अब,
सूखे ठूंठ सा ज्ञान बाँकी है,
जो जीवन और मृत्यु के फर्क को जताता है,
साथ ही ये भी बताता है कि, 
सिर्फ ठूँठ बचा है.........
.सिर्फ ठूँठ बचा है..
                                                                     
                       
                                                                     राजेन्द्र अवस्थी (काण्ड)ै

2 टिप्‍पणियां:

  1. ठूंठ से फ़िर नयी कोपलें निकलेंगी।

    उत्तर देंहटाएं
  2. आदरणीय .....आस जगाने और उम्मीद बढ़ाने के लिए आभार ......

    उत्तर देंहटाएं

आपकी अमूल्य टिप्पणियों के लिए अग्रिम धन्यवाद....

आपके द्वारा की गई,प्रशंसा या आलोचना मुझे और कुछ अच्छा लिखने के लिए प्रेरित करती है,इस लिए आपके द्वारा की गई प्रशंसा को मै सम्मान देता हूँ,
और आपके द्वारा की गई आलोचनाओं को शिरोधार्य करते हुए, मै मस्तिष्क में संजोता हूँ.....