रविवार, 13 मार्च 2011

होली का हुडदंग........

होली रंगों का उल्लास का और प्रेम का त्यौहार है.
छोटे "बच्चों" से ले कर "वयोवृद्ध", सभी पूर्ण "उल्लास" के साथ अपने "उत्साह" को प्रदर्शित करते हुए एक दूसरे को रंग और अबीर लगा कर "प्रसन्नता" पूर्वक मनाते हैं,
बहुत सारे लेखकों,कवियों, और विद्वानों ने अपनी, अपनी शैली में शब्दों के द्वारा खूब होली खेली है.
मैंने भी प्रयास किया है...



portrait by subhasish
मैंने साली से खेला जो रंग, तो घर में बीबी से हो गयी जंग,                                                    पिचक्का टूट गया..........................
उनके क्रोध की सीमा टूट गयी, और पत्नी हमसे रूठ गयी,
            मैंने प्यार से पकड़ा जो हाँथ, उन्होंने हुसर के मारी लात,
                                                  पिचक्का टूट गया...........................



Nandgaon Holi Festival, India by Jitendra Singh : Multi Media Trainer












हमने प्रेम में वादे कर लिए, कान भी मैंने पकड़ लिए,
          पर धन्य हो औरत जात, गुजर गई बैठे सारी रात,
            पिचक्का टूट गया..........................


Contours by sunny-drunk
 स्वाभिमान भी अपना मार गए, सब तरह से कह के हार गए,
            जब नहीं बनी कोई बात, दिखाई हमने भी औकात,
                                                   पिचक्का  टूट गया........................


SHRUTI by Sukanto Debnath
                                       
अब पत्नी से हम ऐंठ गए, और घर के बाहर बैठ गए,
            तब बढ़ने लगी तकरार, बिगड़ गया होली का त्यौहार,
                                                  पिचक्का टूट गया.........................

Ras  Lilas in Vrindavana - भक्तिकाल by Ginas Pics
 सामान भी अपना बांध लिया, और बच्चो को तैयार किया,
               जब करने लगी गृह त्याग, तो लागी हमरे ह्रदय में आग,
                                                 पिचक्का टूट गया.........................

SAM SAJAN THOMAS by Sukanto Debnath
मौसम में कुछ गर्मी थी, मेरे नेचर  में अब नरमी थी,
                मै जोड़ के बोला हाँथ, प्रिये न छोडो मेरा साथ,
                                                 पिचक्का टूट गया.......................




Carnaval d'Automne by Christine Lebrasseur
 मुस्कान उन्हें अति मंद हुई, और प्यार से आँखे बंद हुई,
               जब टूटा भ्रम का जाल, तो बजने लगी प्रेम की ताल,
                                                     पिचक्का टूट गया................... 
                                                                         

                                                                      आपका अपना बुलबुल
                                                                       राजेंद्र अवस्थी   (कांड)

2 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत खूब....
    बहुत अच्छा लगा पढ़कर...साली जी अक्सर ऐसी आफत ले आती हैं...

    उत्तर देंहटाएं

आपकी अमूल्य टिप्पणियों के लिए अग्रिम धन्यवाद....

आपके द्वारा की गई,प्रशंसा या आलोचना मुझे और कुछ अच्छा लिखने के लिए प्रेरित करती है,इस लिए आपके द्वारा की गई प्रशंसा को मै सम्मान देता हूँ,
और आपके द्वारा की गई आलोचनाओं को शिरोधार्य करते हुए, मै मस्तिष्क में संजोता हूँ.....